forest fire दावानल या जंगल की आग

 

Forest fire

Forest fire

दावानल या जंगल ( Forest fire ) की आग -

Forest fire - जब भी जंगल की बात आती है | तो हमें ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे हमें शहरों की भीड़ - भाड़ वाली व्यस्त लाइफ - स्टाइल को छोड़कर हमको गाँव में या किसी जंगल में घर बनाकर रहना चाहिए | क्योंकि हम शहरों में रहकर बड़े ही अस्वस्थ और अनेक रोगों से ग्रसित हो गए हैं | बचपन में जो लगाव हम प्रकृति और जीव - जन्तुओं से करते थे, वो लगाव अब शहरों की बढ़ती आबादी के कारण वो लगाव कम हो गया हैं | और यहाँ पेड़ों की संख्या भी बहुत कम हो गयी हैं |

इसलिए हर किसी का सपना होता है कि प्रकृति के बीच ( जीव - जंतुओं और पेड़ पौधों के बीच ) जाकर रहें | जिससे मानसिक शान्ति मिल सकें | क्योंकि प्रकृति के बीच रहने का आनंद ही कुछ और हैं | लेकिन आज के समय में धीरे - धीरे शहर बनते जा रहें हैं | और जंगलों में भी पेड़ों का सफाया लगातार इंसानों द्वारा किया जा रहा हैं|

लेकिन आपने गर्मियों के दिनो में अक्सर आपने सुना होगा, कि जंगलों में आग लग गयी हैं | Forest fire लगने के मानवीय व प्राकृतिक ( Natural ) कारण होतें हैं | प्राकृतिक कारण यह है कि जंगल में अस्निया नामक लाईकेन पाया जाता हैं |

जो ज्वलनशील प्रकृति का होता है जो सूर्य के प्रकाश से अधिक गर्म होने पर इसमें आग लग जाती हैं | इस लाईकेन को जंगल की आग के नाम से भी जाना जाता हैं |

 

No comments:

Recent Post

ads
Powered by Blogger.