जानवरों के भ्रूण में इंसानी स्टेम कोशिकाओं को डालकर अंग तैयार करना

 artificial organs


जानवरों के भ्रूण में इंसानी स्टेम कोशिकाओं को डालकर अंग तैयार करना

इंसानी स्टेम कोशिकाओं को सूअर के भ्रूण में डालकर इंसानी अंग बनाए जा सकते हैं | इसे काईमेरा एम्ब्रियो कहते हैं |

सूअर के भ्रूण में इंसान की स्टेम कोशिका डालने पर इंसानी अंग विकसित होने लगता हैं | सूअर बिल्कुल सामान्य लगता हैं |

काईमेरा भ्रूण 2 तरीके से बनाया जा सकता हैं |

  1. पहली तकनीक – पहली तकनीक को जीन एडिटिंग कहा जाता हैं | इसमें सूअर के नए भ्रूण से असली DNA हटाकर इंसानी DNA डाला जाता हैं | ऐसा करते ही भ्रूण का विकास बदल जाता हैं | उसके भीतर पेंक्रियाज तैयार होने लगता है |
  2. दूसरी तकनीक – दूसरी तकनीक में इंसान की प्लुरिपोटेंट स्टेम सैल को भ्रूण में डाला जाता हैं | प्लुरिपेटेंट स्टेम सैल, वयस्क कोशिकाओं से निकाली जाती हैं |

जीन एडिटिंग की मदद से इन्हें फिर से मूल स्टेम सैल बनाया जाता हैं | ऐसा करने पर ये शरीर के हर हिस्से के लिए उत्तक बना सकती हैं |

चेतावनी – इंसानी स्टेम कोशिकाए सूअर के मस्तिष्क तक पहुँच सकती हैं | ऐसे में सूअर इंसान जैसे बन सकते हैं या इंसान के समान बुद्धिमता विकसित हो सकती हैं |

जीन एडिटिंग बेकाबू हो गयी तो कैसे निपटा जायेगा, इसका कोई जवाब नहीं हैं |

artificial organs

No comments:

Recent Post

ads
Powered by Blogger.