जीवन में वापसी करना कितना जरूरी हैं | मोटिवेशनल स्टोरी ( प्रेरणादायक कहानी )


जीवन में वापसी करना कितना जरूरी हैं | मोटिवेशनल स्टोरी ( प्रेरणादायक कहानी )

Motivational Story Bounce Back

कभी घमंड आ जाए जिंदगी में तो शमशान का एक चक्कर लगा आना | क्योंकि तुमसे बेहतरीन लोग वहाँ राख बने पड़े हैं |

ये कहानी एक बड़े बिजनेसमैन की हैं | जो एक बड़े से ऑडिटोरियम में भाषण दे रहे थे | और बता रहे थे कि जिंदगी में वापसी करना कैसे करें ?

उन्होंने बताया कि जब वो युवावस्था में थे | तो एक स्टार्टअप शुरू किया था, उनका बिजनेस फ्लॉप हो गया | उनकी लव लाइफ में से लड़की चली गई | कुल मिलाकर के निजी और पेशेवर दोनों तरह की जिंदगी दोनों ही तबाह हो गई |

मालूम नहीं एक रात में क्या जमी | कि घर – बार छोड़कर चल दिए | घर से दूर, पता नहीं था क्या करेंगे साधु बनेंगे, बाबा बनेंगे, बैरागी बनेंगे ? कुछ नया करेंगे, नौकरी करेंगे | कुछ पता नहीं था | बिना किसी सोच के घर छोड़कर के घर से निकल गए |

बताते है कि अगले दिन मैं भटकता – भटकता शाम हो गई थी | एक छोटे से शहर में पहुँचा | वहाँ पर दुकानें बंद हो गई थी, घर बंद हो गए थे | फिर मुझे वहाँ पर एक व्यक्ति दिखाई दिया | जो एक दीवार में छेद करने की कोशिश कर रहा था |

उसके पास गया और बोला – भैया ! अगर आप इजाजत दें | तो मुझे आज की रात रुकना हैं | मैं आज की रात बिताना चाहता हूँ | अगर आपके घर में जगह मिल जाए ? तो उसने बोला – पागल हो गए हो ? मतलब क्या बात कर रहे हो |

मैं तो खुद यहाँ दूसरे के घर की दीवार में छेद कर रहा हूँ | भाई ! मैं चोर हूँ | मेरे घर में कहाँ रुकेगा ? फिर उन्होंने बोला मैंने विनती की | कि कृपया केवल आज रात रुक जाता | चोर को मालूम नहीं क्या सूझा | उसने बोला – ठीक हैं | आज रात मेरे साथ रुक जाना |

मैं रात को उस चोर के घर में गया | उस रात मुझे मालूम पड़ा, चोर बड़ा अच्छा आदमी था | वहाँ मैं 15 दिन तक रुका रहा | और हर रात में चोर जब चोरी करने के लिए जाता था | तो दो बात हमेशा बोल करके जाता था |

पहली बात – आराम से सोना | और दूसरी बात बोलता था | कि सोने से पहले ऊपर वाले की प्रार्थना करना, और फिर सो जाना | जब चोर चोरी करके वापस आता था | तो मैं अगली सुबह उससे पूछता था कि क्या रहा रात में, कल रात में कोई बड़ा माल हाथ लगा ? क्या रहा रात का सीन ?

तो चोर कहता था कि कुछ नहीं हुआ जी | कुछ भी नहीं मिला | और मुझे लगता है कि ऊपर वाला कुछ कृपा करेगा | आने वाले दिनों में कुछ अच्छा मिल जाए | तो वो ये रोजाना बोलता था कि शायद कुछ अच्छा हो जाए |

वो चोर उन 15 दिनों में मुझे बहुत बड़ी सीख दे रहा था | कि जीवन में हमेशा सकारात्मक रहें | उन 15 दिनों में मैंने उस चोर को अपना पहला गुरु माना था | जिससे मैंने सीखा था कि जिंदगी में हमेशा सकारात्मक रहना हैं |

फिर मुझे थोड़े दिनों के बाद जंगल में दूसरा गुरु मिला | एक कुत्ता बड़े ही जोरदार तरीके से भागता हुआ जा रहा था | मुझे लगा कि पता नहीं कहाँ जा रहा हैं ? मुझे बड़ी प्यास भी लगी थी | तो मैं उसके पीछे – पीछे हो लिया | तो मैंने देखा कि वो जंगल के बीच में से निकल गया और नदी के पास पहुँच गया |

उसने मुझे नदी का रास्ता दिखा दिया | वहाँ जाकर के मैंने अपनी प्यास बुझाई | लेकिन मैंने देखा कि कुत्ता अपनी प्यास नहीं बुझा पा रहा था | वो नदी के पास जाता, फिर वापस आ जाता | पास जाता, फिर वापस आ जाता |

फिर मुझे समझ में आया कि शायद वो अपनी परछाई देख कर डर रहा हैं | उसे लग रहा है कि दूसरा कुत्ता नदी में हैं | कुछ देर तक वो आता जाता रहा | लेकिन फिर उसने हिम्मत करके छलांग दी | वो नदी में कूद गया | और पानी पीकर वापस बाहर आ गया |

इस छोटी सी घटना में मुझे दूसरी बड़ी सीख दी | वो मेरा दूसरा गुरु था, जिसने मुझे सिखाया कि अगर जिंदगी में मुश्किल आती हैं | तो एक छलांग लगाई, जम्प लगाइए | क्या पता वो मुश्किल नीचे से निकल जाए |

और फिर मुझे मेरा तीसरा गुरु मिला | एक बार मैं एक छोटे से गाँव में घूम रहा था | वहाँ मैंने देखा कि एक छोटा सा बच्चा हाथ में मोमबत्ती जलाकर के मंदिर की तरफ जा रहा था | तो मैंने उससे पूछा कि क्या करने जा रहे हो ? कहाँ जा रहे हो ?

तो वो बताने लगा कि मंदिर जा रहा हूँ | फिर मैंने उसके मजे लेने की सोची | तो मैंने उससे कहा कि बेटा जब आपने मोमबत्ती जलाई होगी | तो पहले तो ये बुझ रही होगी | फिर आपने जलाई होगी |

तो वो जो उजाला था वो अचानक कहाँ से आया | तो उस लड़के को लगा कि ये मेरी फिरकी ले रहा हैं | तो उस लड़के ने मोमबत्ती को बुझा दिया | और फिर मुझसे बोला कि अब आप बताओ कि उजाला जो अभी जल रहा था | वो कहाँ गया ? उसे पकड़ के दिखाओ |

उसने मेरी फिरकी ले ली | उस दिन उस छोटे से बच्चे ने मुझे सिखाया | कि अगर आपको लगता है कि आपके पास बहुत सारा ज्ञान है | तो आप गलत सोचते हैं | आपसे ज्यादा ज्ञानी इस दुनिया में हैं | मेरा अहंकार चकनाचूर हो गया |

ये तीन गुरु मुझे मिले | जिन्होंने मुझे जिंदगी में वापसी करने का रास्ता दिखाया | उस दिन के बाद में वापस अपने घर आया | बिजनेस शुरू किया | उसके बाद में मेरी शादी भी हो गई | आज मेरा जीवन खुशहाल हैं |

सीख – मैंने इन तीन गुरुओं से सीखा है | कि जीवन में वापसी करना कितना जरूरी हैं | अगर आपके जीवन में भी बुरा वक्त चल रहा है | तो जीवन में वापसी कीजिए, इन तीन बातों के साथ |

हारोगे नहीं तो सीखोगे कैसे ? और सीखोगे नहीं तो जीतोगे कैसे ?

Credit : MY FM

वापसी

Motivational Story Bounce Back

किसी को भी रातोंरात सफलता नहीं मिलती हैं, उसके पीछे सालों की मेहनत होती हैं | मोटिवेशनल स्टोरी ( प्रेरणादायक कहानी )

No comments:

Recent Post

ads
Powered by Blogger.