Madame Curie ( मैडम क्युरी ) एक महान महिला वैज्ञानिक

Madame Curie

Madame Curie ( मैडम क्युरी ) एक महान महिला वैज्ञानिक

  • मैडम क्युरी ( Madame Curie ) का पूरा नाम मैडम स्कलाडोवका क्युरी था |
  • उनका जन्म 7 नवंबर 1967 को पोलैंड में हुआ था |
  • वे अब तक की पहली महिला वैज्ञानिक हैं जिन्हें भौतिकी व रसायन विज्ञान दोनों क्षेत्रों में नोबेल पुरस्कार मिले |
  • विज्ञान की दो महत्वपूर्ण शाखाओं भौतिकी और रसायन विज्ञान में उनका योगदान अतुलनीय हैं |
  • महिला होने के कारण उन्हें बहुत सी कठिनाईयों का सामना करना पड़ा | लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी और अनेकों प्रयोग किये |
  • इन्होने ही रेडियम की खोज की थी |
  • मैडम क्युरी और इनके पति पियरे क्युरी दोनों ने पोलोनियम की खोज की |
  • इनकी बड़ी बेटी आइरीन को रसायन विज्ञान और छोटी बेटी ईवा को शान्ति का नोबेल पुरस्कार मिला |
  • दुनिया में एकमात्र इन्ही का परिवार हैं जिनके सभी सदस्यों को नोबेल पुरस्कार मिला |
  • इन्होने पूरा जीवन खोजों और प्रयोगों में ही बिताया |
  • उनका विज्ञान के प्रति जूनून बहुत ही अधिक था, इसी कारण लैब में काम करते समय उन्हें समय का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रहता था और वे खाना – पीना भूल कर अपने लैब के कार्यों में लगी रहती थी |
  • इनकी मृत्यु इन्ही के द्वारा खोजे गए रेडियो एक्टिव तत्व पोलोनियम के रेडियेशन के कारण हुई |
  • वे कभी – भी अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं देती थी | जिसके कारण 67 वर्ष की उम्र में ही इनकी मृत्यु हो गई थी |
  • उनका कहना था कि विज्ञान ही दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज हैं |

 

 

No comments:

Recent Post

ads
Powered by Blogger.