कीटों के बारे में 51 आश्चर्यजनक तथ्य

insect

insect

कीटों के बारे में 51 आश्चर्यजनक तथ्य

  1. आर्थोपोडा संघ का प्रमुख वर्ग कीट है |
  2. पृथ्वी पर सबसे पहले उड़ने वाले जीव कीट थे |
  3. कीटो ( insects ) की अब तक 10 लाख से अधिक प्रजातियाँ खोजी जा चुकी है |
  4. ये पृथ्वी के सभी वातावरण में पाए जाते है | उदाहरण – समुद्र, पहाड़, मैदानों आदि |
  5. कीट – खंडो में विभाजित शरीर वाला कोई भी छोटा अनेक टाँगों वाला प्राणी कीट कहलाता है |
  6. कीट में फेरोमोन छोड़ने का विशेष गुण पाया जाता हैं | जिसके कारण इसी प्रजाति के दुसरे कीट इस फेरोमोन की गंध को समझकर उस कीट का अनुसरण करते हैं |
  7. इंसानों की होने वाली मौतों का सबसे बड़ा कारण कीट हैं | उदाहरण – मच्छर | ( हर साल विश्वभर में 10 लाख लोग मच्छरों के काटे जाने से मारे जाते हैं | )
  8. पृथ्वी पर पाए जाने वाले जीवों में से कीटों की संख्या सबसे अधिक है |
  9. शहद जो कभी ख़राब नहीं होता, यह भी कीट वर्ग के प्राणी मधुमक्खी के द्वारा ही तैयार किया जाता हैं |
  10. पृथ्वी के अपघटनकारी या सफाई कर्मचारी भी कीट है | उदाहरण – चींटी, मकोड़े, मक्खी आदि |
  11. कीटों ( insect ) का मानव जाति से घनिष्ट सम्बन्ध हैं | पालतु जानवरों के अलावा मानव जाति के इतने नजदीकी सम्पर्क में जानवरों का कोई समूह नही पाया जाता है जितने के कीट | कीट मनुष्य के इतने करीब रहते है कि मनुष्य तथा उनके द्वारा उपयोग की जाने वाली प्रत्येक वस्तु पर कीट पाए जाते है उदहारण – चींटिया, कॉकरोंच आदि |
  1. कीट वर्ग के प्राणियों में 4 पंख ( 2 जोड़ी ) पाए जाते हैं |
  2. कीटों ( insect ) के 6 पैर ( 3 जोड़ी ) पाए जाते हैं |
  3. कीटों से प्राप्त रेशम जो सबसे उत्तम प्रकार के वस्त्र या धागा बनाने में उपयोग किया जाता हैं | वह धागा भी कीटों से प्राप्त होता हैं |
  4. गुबरेला ( स्कैरप ) गोबर या लीद के गोले बनाकर लुढ़काता हुआ लेकर जाता हैं | पृथ्वी पर यह एकमात्र ऐसा जीव हैं जो आकाशगंगा की रोशनी को देखकर अपना रास्ता चुनता हैं |
  5. प्राचीन मिश्र के लोग गुबरेले को भगवान के रूप में पूजतें हैं |
  6. कुछ प्रकार के कीट अँधेरे में भी चमकते हैं | उदाहरण – जुगनु |
  7. कीट सामजिक प्राणी होते हैं | अर्थात् इनका सामजिक व्यवहार इंसानों के समान व्यवस्थित होता हैं | इनमे इंसानों के समान सैनिक, राजा, मजदूरों का वर्ग अलग – अलग होता हैं | उदाहरण – दीमक, चींटियाँ |
  8. मिश्र के लोग गुबरेले नामक कीट को अंतिम संस्कार में भी शामिल करते थे | अंतिम संस्कार में उपयोग किये जाने वाले वस्त्र और अन्य सामग्रियों पर गुबरेले का चित्र उपस्थित होता था |
  9. कीट एकलिंगी प्राणी हैं | इनमे नर व मादा अलग – अलग होते हैं |
  10. कुछ कीट मनुष्य तथा पालतू पशुओं में घातक रोग या वायरस फैलाने में सहायक होते हैं | जैसे – एनाफिलिज वंश की विभिन्न जातियाँ मनुष्य में मलेरिया रोग के परजीवी पहुँचातें हैं | और पिस्सु ( Flees ) प्लेग रोग के वाहक हैं |
  11. पक्षी-जूं मेलाफैगा ( Mallophaga ) पक्षियों के कोमल परों को नष्ट कर देती हैं और उनमे जलन व खुजली उत्पन्न करती हैं |
  12. मकोड़ों में एक्जोस्केलेटन पाया जाता हैं | जो कवच का कार्य करता हैं | जैसे – गुबरेला |
  13. इंसानों के जन्म से 40 करोड़ साल पहले कीट पृथ्वी पर आये |
  14. कीट डायनासोरों के जन्म से भी पहले से ही धरती पर मौजूद हैं |
  15. लेकिन कीटों में से भी सबसे लम्बे समय से चींटियाँ इस धरती पर मौजूद हैं |
  16. कीटों में सयुंक्त नेत्र पायी जाती हैं | जिसके कारण ये उन तरंगो या अदृश्य घटनाओं को देख सकते हैं | जिनकों इंसान नहीं देख पाते हैं |
  17. पृथ्वी पर रहने वाले कामयाब जीव भी कीट हैं | उदाहरण – चींटियाँ |
  18. दुनिया के प्रत्येक 4 जीव में से एक जीव चींटी हैं |
  19. दुनिया में इंसान की सबसे पुरानी सभ्यता जो कालाहारी रेगिस्तान दक्षिणी अफ्रीका में पायी जाती हैं | उन्हें सान कहा जाता हैं | उन लोगो का मानना हैं कि इंसानों की रचना कीटों से हुई थी |
  20. रोडनियस ( Rhodinus ) एक ऐसा जीव हैं जो अपने जीन अन्य जीवों में फैलाता हैं |
  21. कॉकरोंच अपने शरीर से साँस लेते हैं |
  22. तितली अपनी टाँगों से किसी भी चीज का स्वाद लेती हैं |
  23. कीट प्रजाति के मच्छर पृथ्वी पर मिले प्रमाणों के अनुसार 8 करोड़ वर्षों से धरती पर हैं |
  24. कीट प्रजातियों के जीवों में ऐसे गुण पाए जाते हैं जिसके कारण ये 10 या उससे अधिक वर्षों तक बिना खाए – पिए रह सकते हैं | जैसे – मकड़ी |
  25. ततैयों की कुछ प्रजातियाँ अन्य कीटों या जीवों को डंक मार कर उनके शरीर में अपने अंडे दे देती हैं |
  26. पिस्सु ऐसे जीव हैं जो अपने शिकार के इन्तजार में अनेक वर्षों में एक जगह तक बैठे रह सकते हैं |
  27. टिड्डी का एक बड़ा दल एक रात में एक बीघा तक की फसल को चट कर सकता हैं |
  28. कीटों ( insect ) की कुछ ऐसी प्रजातियाँ हैं जो – 50 C के ताप पर भी जीवित रह सकती हैं |
  29. डिपर फ्लाई नामक कीट विश्व में सबसे तेज लगभग 180 मील प्रति घंटे की रफ़्तार से उड़ता हैं |
  30. जूं मनुष्यों व अन्य जीवों में परजीवी के रूप में उनका खून चूसने के लिए जानी जाती हैं |
  31. कुछ कीट जैसे – पतंगे ( माँथ ) क्षलावरण में बहुत ही निपुण होते हैं क्योंकि इनके पंखों पर आँखों के समान धब्बे पाए जाते हैं | जो शिकारियों को चेतावनी देने या डराने का कार्य करते हैं |
  32. X Morgianni Predicta नामक एक ऐसा कीट पाया जाता हैं जिसकी थूथन 30 cm. लम्बी होती हैं | जो लम्बी परागनालिका वाले फूलों से रस चूसने के लिए अनुकुलित हैं |
  33. कीटों में छोटी – छोटी सैकड़ो आँखे मिलकर संयुक्त नेत्र का निर्माण करती हैं |
  34. कीटों ( insect ) की आँखे लगभग 270 डिग्री कोण पर भी देख सकती हैं |
  35. लगभग सभी कीट दुनिया को Slomotion में देखते हैं |
  36. कीटों को दुनिया रंगहीन दिखाई देती हैं |
  37. कीटों में गंध को सूंघने की शक्ति अन्य जीवों की तुलना में काफी अधिक होती हैं | जैसे – मधुमक्खी कुत्तों से भी तेज गंध सूँघ सकती हैं |
  38. कीट किसी भी चीज को समझने या जानने के लिए आँखों से ज्यादा गंध का इस्तेमाल करते हैं |
  39. कीट सामान्यता कभी नही सोते हैं |
  40. विस्फोटक बॉम्बर बीटल अपने पिछवाड़े से 100 C से भी अधिक गर्म तरल पदार्थ की फौव्वार छोड़ता है | जिसके कारण बड़े से बड़े और खतरनाक से खतरनाक जीव या इंसान इससे उलझने से पहले अनेक बार सोचता है |

insect

No comments:

Recent Post

ads
Powered by Blogger.