स्टार चाइल्ड या एलियन के बच्चे

alien

alien

स्टार चाइल्ड या एलियन ( alien ) के बच्चे

विज्ञान के अनुसार – मानव के 2 सूत्रों वाले डबल हेलिक्स DNA के अलावा हमारे DNA में 10 और Junk DNA ( एन्फिरिक्स जॉइंट्स ) भी मौजूद रहते हैं | जो हमारे अस्तित्व के समय से ही स्थित हैं | साल 2013 में छपी अपनी थिसस ( जीवनी ) में वैज्ञानिक राइक ने गुफा मानवों और प्राचीन होमिनेन्ट जिनी सोमेन्स ( Neanderthal ) के जीनोम की जाँच करके लिखा था | कि वे इंसानों के साथ सहवास करते थे |

उन्होंने देखा कि उनका DNA 4 लाख साल से भी ज्यादा पुराना हैं और वो एक अनजान पूर्वज का हैं | ये अनजान पूर्वज कौन था, इसका पता नही लगाया जा सका हैं | कुछ लोगो का मानना हैं कि यह DNA किसी परग्रही जीव का हो सकता हैं |

कॉपर केनियन मेक्सिको, सन 1930 में एक खदान की सुरंग में खुदाई के दौरान एक मजदूर को खुदाई के समय 2 खोपड़ियाँ मिली | उनमे से एक खोपड़ी का आकार बड़ा ही अनोखा था | उस खोपड़ी की रेडियो कार्बन डेटिंग जाँच से पता लगा कि वो खोपड़ी करीब 900 साल पुरानी हैं | उस खोपड़ी के ऊपरी जबड़े की जाँच करने वाले एक डेंटिस्ट ने बताया की | ये खोपड़ी एक बच्चे की हैं | जिसकी उम्र लगभग 5 वर्ष रही होगी |

कुछ वैज्ञानिकों के अनुसार

उस खोपड़ी का ऐसा आकार एक जेनेटिक बीमारी की वजह से था | शायद हाइड्रोसेफेलिस के कारण, इस बीमारी में खोपड़ी में अत्यधिक तरल भर जाने के कारण उसका आकार बिगड़ जाता हैं |

alienलेकिन पैरानॉर्मल रिसर्चर और खोपड़ी की देखभाल करने वाले स्कल रिसर्चर ऐसा नहीं मानते | क्योंकि वो खोपड़ी एक आम इंसान की खोपड़ी से 10 % बड़ी हैं | यह खोपड़ी इंसान की खोपड़ी के मुकाबले सघन और मोटी हैं | ( इसका कपाल ) और इसमें मोटे – मोटे रेशे पाए गए है | रिसर्चरों के अनुसार ये खोपड़ी कुछ हद तक हाइब्रिड हैं | यह किसी इंसान की तो हैं पर साथ में किसी और जीव की भी है |

उस खोपड़ी को स्टार चाइल्ड

उस खोपड़ी को स्टार चाइल्ड की खोपड़ी नाम दिया गया | इस स्टार चाइल्ड खोपड़ी को जब फोरेंसिक तरीके से चेहरा प्रदान किया गया | तो एक चौकाने वाली बात पता लगी | यह खोपड़ी उन्ही परग्रही जीवों से मिलती – जुलती हैं | जिन्हें हम ग्रे – एलियन के नाम से जानतें हैं |

वैज्ञानिक लॉयड पाई ने एक प्रोजेक्ट शुरू किया | जिसका नाम उन्होंने स्टार चाइल्ड रखा | और रिसर्चरो के साथ काम करते हुए यह पता लगाने लगे कि यह अनोखी खोपड़ी किसकी थी | उन्होंने बताया कि जब जेनेटिक प्रक्रिया द्वारा इसके DNA टेस्ट किये गए तो उनको चौकाने वाले नतीजे पता लगे | वैज्ञानिको को उसमे माइट्रोकॉन्ड्रियल DNA तो मिला | यानि वो DNA जो माँ से मिलता हैं | लेकिन उसमे न्यूक्लियर DNA नहीं मिला |

यानि वो DNA जो माता और पिता दोनों से संतान को मिलता हैं | वैज्ञानिकों ने उसे खोजने का अनेक बार प्रयास किया, लेकिन न्यूक्लियर DNA नहीं मिला | इससे यह बात स्पष्ट होती हैं कि स्टार चाइल्ड ( बच्चे ) की माँ तो इंसान थी | लेकिन उसके पिता के DNA में कुछ तो गड़बड़ हैं | अगर उसका पिता इंसान होता तो उसका न्युलियर DNA उतनी ही आसानी से मिल जाता, जितनी आसानी से माँ का मिला था | साल 2011 में इस खोपड़ी की जाँच विस्तृत उन्नत DNA तकनीक से की गयी तो पता लगा कि इस बच्चे की माँ भी इंसान नहीं थी | लोगो का मानना हैं कि यह खोपड़ी एक परग्रही बच्चे की थी |

alien

No comments:

Recent Post

ads
Powered by Blogger.